Sunday, October 3, 2010

चाणक्य नीति-एकता से शत्रु का मुकाबला संभव (chankya neeti-ekta se dushman ka mukabla sanbhav)

बहूनां चैव सात्तवानां समवायो रिपुञ्जयः।
वर्षधाराधरो मेघस्तृपौरपि निवार्यते।
हिन्दी में भावार्थ-
अगर लोगों का समूह बड़ा होने के साथ ही एकता कायम किये रहे तो वह शत्रु पर विजय प्राप्त कर लेता है जैसे वर्षा की तेज धारा होने होने के बावजूद तिनकों का समूह उसे आगे बहने से रोक लेता है।
हिन्दी में भावार्थ-सामान्य मनुष्य की सोच हमेशा ही अपनी चिंताओं के इर्दगिर्द घूमती है। सच बात तो यह है कि इस संसार के संकट दुष्टों द्वारा इसलिये ही पैदा किया जाता है क्योंकि सज्जन लोग एक होकर उनका मुकाबला नहीं कर पाते। मुकाबला करना तो दूर ऐसा सोचते भी नहीं है।
कहा भी जाता है कि विश्व की समस्यायें दुष्टों की सक्रियता से नहीं बल्कि सज्जनों की निष्क्रियता के कारण बढ़ती हैं । सज्जन लोग अपने तथा परिवार के जीवन की रक्षा के लिये इतने आतंकित रहते हैं कि एक दूसरे की मदद करने की बजाय परस्पर ही पीड़ित के दोष ढूंढने लगते हैं। सार्वजनिक जगहों पर महिलाओं के साथ बदतमीजी और बेबसों पर हमले इसी कारण ही होते हैं क्योंकि अपराधियों को पता है कि डरपोक कथित भले लोग कभी भी पीड़ित की मदद को नहीं आयेंगे।
हमारे देश की महिमा तो बड़ी विचित्र है। सभी जानते हैं कि यह जीवन क्षण भंगुर है और जब मृत्यु आयेगी तब कोई भी उसे रोक नहीं पायेगा पर अपने मतलब से ही मतलब रखने वाले इसे भूलकर डरपोक जैसा जीवन गुजारते हैं। यही कारण है कि फूट का लाभ दुष्ट लोग उठाते हैं।
अगर सज्जन लोग अपने अंदर चेतना, दृढ़ता और परस्पर सहयोग का भाव लायें तो दुष्टों को रोक जा सकता है। इस बात पर अगर गंभीरता विचार किया जाये तो तिनके भी हमें सिखा सकते है जो ढेर सारी बरसात में भी उसके सामने विचलित नहीं होते। जहां झुंड की तरह खड़े हैं वहां उसका पानी रोके रहते हैं। इन्हीं तिनकों से बनी झौंपड़ियां अपने स्वामी की बरसात से रक्षा करती हैं।
-----------------
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com

यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
----------------------
हिन्दी साहित्य,समाज,संदेश,हिन्दू धर्म,अध्यात्म,hindi sahitya,yogasan,pranayam,hindu dharma,आध्यात्म,संदेश,ज्ञान,पतंजलि योग विज्ञान,पतंजलि योग विज्ञान,भारतीय आध्यात्म,hindi literature,patanjali yog vigyan,adhyatma, aadhyatma,indian society,hindu parsonal,hindu religion,hindu dharma,patanjali yoga in hindi,dhyan,धार्मिक विचार,हिन्दू धार्मिक विचार,hindi dharmik vichar,dharmik vichar,Religious thought,hindu Religious thought,हिन्दू अध्यात्म विचार,हिन्दू धर्म संदेश,chankya niti,hindu adhyatmik vichar,dharmik sadbhavna

1 comment:

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बहुत बढिया, धन्यवाद!

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


इस लेखक की लोकप्रिय पत्रिकायें

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें

Blog Archive

stat counter

Labels