Monday, September 26, 2016

टेस्ट मैचों की रैकिंग में नंबर एक होना शहीदों का बदला नहीं-हिन्दीसंपादकीय (Test match ranking no-1 is not revnege of shahid-Hinid Editorial)

                              ‘पाकिस्तान से छीना ताज, शहीदों को श्रद्धांजलि’ जैसे शीर्षक देकर हमारा मीडिया यह साबित करना चाहता है कि वह देशभक्ति भी चतुराई से बेचता है। कानपुर टेस्ट में भारत की न्यूजीलैंड पर जीत का पाकिस्तान से बस इतना ही लेनादेना है कि विश्व की टेस्टमैच रैकिंग में वह एक नंबर से दूसरे नंबर पर आ गया है। हम तो यह भी कहते हैं कि यह विजय अगर पाकिस्तान पर होती तो भी शहीदों के खून का बदला इसे नहीं माना जा सकता था। हालांकि समाचारों के अनुसार भारतीय सैनिकों ने सीमा पर हिसाब किताब बराबर करने की कार्यवाही शुरु कर दी है और सच तो यह है कि वही अपने साथियों की शहादत का बदला ले सकते हैं।  क्रिकेट या हॉकी में हराना कोई बदला नहीं होता है।

               पाकिस्तान ने यह नंबर भी अब दो चार दिन पहले इंग्लैंड को हराकर प्राप्त किया था।  इस तरह की उठापटक एकदिवसीय तथा बीसओवरीय क्रिकेट मैचों की रैकिंग में भी होती रहती है। अन्य खेलों में खिलाड़ियों की इसी तरह की रैकिंग होती है जिसमें कभी कभी बेहतर से बेहतर खिलाड़ी भी  निजी कारणों से जब अधिक मैच नहीं खेलता तब वरीयता सूची में उसका स्थान नीचे आ जाता है जिसे समय आने पर फिर प्राप्त करता है। खिलाड़ियों व उनके प्रशंसकों के लिये रैकिंग कोई महत्व नहीं होता।

                          पाकिस्तान का बौद्धिक समाज एक वर्ग चाहता था कि नवाज अपने भाषण में आतंकवाद के साथ उरी की घटना की निंदा करें पर वह केवल कश्मीर में भारत तक आरोप लगाने तक सीमित रहे। दरअसल नवाज शरीफ ने राहिल शरीफ का तैयार किया  हुआ भाषण पढ़ा। वहां के सैन्य अधिकारी देश की बजाय अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं जो केवल कश्मीर मुद्दे पर ही टिका है।  पाकिस्तानी चैनलों की बहस को देखें तो वहां बौद्धिक समाज और सेना के बीच मतभेद हैं पर वक्त डरते और शब्द चबाते हुए अपनी बात कह रहे हैं। 

Wednesday, September 21, 2016

चाहने वाले तो इतंजार करते मगर चहेते ही रास्ता बदल जाते हैं-दीपकबापूवाणी (Chahehte Rasta badal jate-Deepak Bapu Wani)


अच्छी खबर का इंतजार रहता, बुरी भी हो तो भी इंसान सहता।
‘दीपकबापू’ जिंदगी में रहते मस्त, वही जो सहज धारा में बहता।।
-------------
तख्त पर जो जमा मस्त हैं, लाचार खड़े देखने वाला पस्त हैं।
‘दीपकबापू’ मतवाले बने पहरेदार, नैतिकता का सूर्य अब अस्त है।।
--------------
सभी ने रख लिये अपने वेश, पता न लगे कौन सेठ कौन दरवेश।
‘दीपकबापू’ कहां बनायें नया निवास, मायावी हड़प चुके सभी देश।।
---------------
चिंताओं मेें थमी जिंदगी वादों पर मरने के लिये बेकरार है।
सपनों का सफर थमता नहीं, सच की राह में बड़ी दरार है।
---------------
खतरा घर में तो बाहर भी है, कब तक किससे जान बचायेंगे।
चिंताये जब तक पीछा करेगी कैसे जिंदगी का जश्न मनायेंगे।।
--------
आंख और कान बंद कर देखा, खामोशी भी खूबसूरत लगी थी।
याद नहीं रहीं वह सूरत और सीरते जो कभी बदसूरत लगी थी।
---------------
जिंदगी के अर्थ से लोग हार जाते हैं, तब शब्द उनका मन मार जाते हैं।
 ज्ञान पथ पर जब चलना लगे कठिन लोग साथ अपने तलवार लाते हैं।
--------------------
चाहने वाले तो इतंजार करते मगर चहेते ही रास्ता बदल जाते हैं।
दिल से सोचने वाले लोग दिमाग के खेल में कभी नहीं चल  पाते हैं।
--------------------
अपने लिखे पर बहुत इतराते हैं, चार शब्द ही कागज पर छितराते हैं।
‘दीपकबापू’ अमन के बने फरिश्ते, कातिलों का नाम फरिश्ता दिखाते हैं।।
------------------
अपने सत्य से सभी लोग मुंह चुराते, झूठ का झंडा हाथ में लेकर झुलाते।
दीपकबापू ख्याली पुलाव रोज पकाते, जलाकर हाथ फिर मददगार बुलाते।।
--------------------
तमाम उम्र गुजारते अपनों को संभालते, कूड़ेदान में पड़े सपनों को खंगालते।
‘दीपकबापू’ सबकी खुशी की करें कामना, बहाने से अपना मतलब संभालते।।
------------------
दिल में जगह नहीं घर बुलाते, स्वागत में सिर अहंकार में झूलाते।
‘दीपकबापू’ खुश होना भूल गये, बेदर्द लोग अपना दर्द यूं सुलाते।।
----------------
पराये दर्द में खुशी तलाश करते, अपने दिल में लोग नाश भरते।
दीपकबापू अपना अस्तित्व भूले, स्वय को नाकाम निराश करते।।
--------------------
किसी का साथ छूटने की चिंता ने इतना कभी नहीं डराया।
इंतजार से नाता टूटने की खबर से जितना दिल थर्राथर्राया।।
----------------
जिंदगी का दर्शन हर कोई अपने ढंग से सुनाता है।
कोई होता है दिलवाला जो जिंदा गीत गुनगनाता है।।
------------
जिंदा के दर्द का इलाज नहीं, लाशों को दवा बांटते हैं।
भरोसा  बेचने वाले सौदागर धोखे में फायदा छांटते हैं।
-----------------
हमने तोे हंसते हुए शब्द कहे, गलत अर्थ लेकर वह रोने लगे।
हमदर्दी जताना अब है महंगा, दिल की भाषा लोग खोने लगे।
-------------------
सेवकों के अभिनय से बनते समाचार, बहसों पर कुतर्कों का भार।
गंभीर लगते सारे विषय, हास्य रस का बंटता साथ में अचार।।
-----------------
हम तो दर्द बांटने गये उन्होंने समझा मजाक उड़ाने आये हैं।
कैसे समझाते उनके साथ हम सच्ची हमदर्दी जुड़ाने आये हैं।
-------
कटी पतंग की तरह हो गये लोग, राख चमकाये चेहरा अंदर पलें रोग।
‘दीपकबापू’ कृत्रिम सौंदर्य पर फिदा, अमृत छाप विष का करें भोग।।
----------------------
अपनी वाणी की करें तीखी धार, बेइज्जत लफ्ज का होता वार।
दीपकबापू अब ढूंढ रहे हमदर्दी, अपने दिल के जज़्बात दिये मार।।
-----------------
हंसी की भंगिमा भी बनी व्यापार, ठिठोली बना देती बड़ा कलाकार।
‘दीपकबापू’ विषय समझते नहीं, अपनी पीठ थपथपाकर करें बेड़ा पार।।
------------------
सच कहो तो लोग बुरा माने, झूठ बोलना हम नहीं जाने।
बोलो तो शब्द का अर्थ समझें नहीं खामोशी में मिलें ताने।
-----------

Sunday, September 4, 2016

जिंदगी के सफर में गुज़र जाते हैं जो मुकाम, वो फिर नहीं आते (Zindagi ke Safar mein Gujar jate hain jo Mukam-Hindi Article)

                     आनंद फिल्म का एक गाना है-जिंदगी है एक पहेली, कभी हंसाये तो कभी रुलाये।’  एक दूसरा गाना भी याद आ रहा है-‘जिदगी के सफर में गुज़र जाते हैं मुकाम वो फिर नहीं आते।’ एक दौर था जब  हमारी हिन्दी फिल्मों के गाने मनोरंजन के साथ ही दर्शन से भी भरे होते थे। यह ऐसे गाने थे जो गीत संगीत प्रेमी होने के साथ ही दिमाग मेें दर्शन तत्व भी स्थापित करते थे। कहते हैं कि जिंदगी के उम्र की दृष्टि से रुचिया बदलती हैं या बदल देना चाहिये।  हमें लगता है कि यह नियम उन लोगों पर लागू होता है जो जिंदगी में अभिव्यक्त होने के शौक नहीं पालते।  बहुत कम लोग होते हैं कि उनकी इंद्रियां ग्रहण करने के साथ ही त्याग के लिये भी लालायित रहती हैं।  जिस तरह हम मुख से ग्रहण वस्तुओं को पेट में अधिक नहीं रख पाते। उसी तरह स्वर, शब्द तथा दृश्य के संपर्क में आयी इंद्रियां भी गेय अर्थ का विसर्जन करना चाहती है।  मुश्किल यह है कि ग्रहण तथा विसर्जन के मध्य एक चिंतन की प्रक्रिया है जिसमें कोई भी अपनी बुद्धि खर्च नहीं करता चाहता।  ऐसा नहीं है कि लोग देखने, सुनने तथा बोलने की क्रिया से दूर रहते हैं पर उनके शब्द, व्यवहार तथा अन्य क्रियायें आंतरिक शोध के अभाव में अस्त व्यस्त दिखाईं देती हैं।
                समय के साथ जीवन शैली भी बदली है।  लोग आज प्रकृत्ति से अधिक आधुनिक साधनों के कृत्रिम आनंद से इस तरह जुड़े हैं कि उनका बौद्धिक अभ्यास न्यूनतम स्तर पर आ गया है।  परिणाम यह है कि मानसिक तनाव से पैदा बीमारियां बढ़ रही हैं।  हम कभी देखते थे कि नये सिनेमाघर बनते थे तो लोग उन्हें देखने जाते थे।  अब स्थिति यह है कि बड़े बड़े सिनेमाघर बंद हो रहे हैं और नये अस्पताल बाहर से ऐसे लगते हैं जैसे कि सिनेमाघर बना हो।  गीत संगीत के प्रेमी तो आज कम ही देखने को मिलते हैं।  हमारा अनुभव तो यह रहा है कि जिसे कोई अतिरिक्त शौक नहीं है उसमेें सोच की शक्ति भी कम ही रहती है। एक तरह से व्यक्ति रूखा होता है भले ही वह रुचिवान होने का दावा करता हो। जिंदगी के दौर में यह बदलाव सभी देखते हैं पर इस पर सोच पायें इसका कष्ट कम ही लोग उठाते हैं।
------------------

Saturday, July 30, 2016

राज्य प्रबंध की भूमिका समाज के सुचारु संचालन तक ही होना चाहिये-हिन्दी लेख (Stete And socity-HindiEditorial)


                              शराब, सिगरेट तथा मादकद्रव्य पदार्थों का सेवन देह के लिये खतरनाक है पर हमारा मानना है कि राज्य को इन पर पर प्रतिबंध लगाने का प्रयास नहीं करना चाहिये।  इनके प्रयोग से मनुष्य शारीरिक, मानसिक तथा वैचारिक रूप से कमजोर होता है। उससे भी ज्यादा कड़ी बात तो यह है कि इनके नियमित सेवन करने वाले व्यक्तियों से समय पड़ने पर दृढ़ सहयोग की आशा भी करना मूर्खता है चाहे वह कितने भी निजी क्यों न हों?
इसके बावजूद स्वतंत्र लेखक के रूप में हमारी मान्यता है कि राज्य प्रबंध को समाज सुधार के काम में ज्यादा हस्तक्षेप करने की बजाय उनकी ठेकेदारी करने वालो लोगों पर ही छोड़ना चाहिये। अपने जिस कृत्य से व्यक्ति अगर किसी की हानि नहीं कर रहा हो उसके विरुद्ध केवल इसलिये कार्यवाही नहीं की जा सकती कि वह अपना स्वास्थ्य बिगाड़ रहा है।  शराब पर प्रतिबंध लगाना आसान है पर प्रश्न यह है कि क्या उसका राजकीय औचित्य कैसे प्रमाणित किया जायेगा-खासतौर से जब शराब से अधिक खतरनाक तंबाकू पाउच, अफीम तथा कोकीन अन्य खतरनाक मादकपदार्थ अवैध रूप से बिना राजकीय अनुमति के बिक रहे हैं और जिनका शिकार भारत का युवा वर्ग बुरी तरह से हो रहा है।  हालांकि साधारण तंबाकू चुने से मिलाकर खाना स्वास्थ्य के लिये ठीक नहीं है पर इनका सेवन पारंपरिक रूप से होता है और इससे इतने लोग कैंसर का शिकार नहीं होते जितना पैक पाउच से होते हैं। यह पैक पाउच सामान्य तंबाकू से कई गुना खतरनाक है पर जब प्रतिबंध की बात आती है तो परंपरागत तंबाकू सेवन पर भी लागू करने की बात की जाती है ।
बहरहाल हम किसी प्रतिबंध का विरोध या समर्थन नहीं कर रहे। हम तो यहां तक कहते हैं कि व्यसन मनुष्य को अकर्मण्य तथा कायर बनाते हैं। हमारा प्रश्न तो यह है कि राज्य प्रबंध को समाज के सुचारु संचालन तक अपनी भूमिका रखना चाहिये।  सुधार करने का जिम्मा समाज पर ही छोड़ना चाहिये। समय समय पर हमारे देश में समाज सुधारक अपना काम करते रहें हैं।
-------------------

Sunday, July 17, 2016

पति पत्नी के प्रसन्न रहने पर ही परिवार का सुखी होना संभव-मनुस्मृति के आधार पर चिंत्तन लेख (Wifr Hasband And Family-A Hindi Article based on Manu Smruti)

                        एक वर्ष पूर्व की रचभावनाओं के सौदागर अनेक स्वांग रचकर आम मनुष्य का हृदय विभिन्न रसों में बहलाकर अपनी हित साधते हैं क्योंकि वह जानते हैं मनुष्य का मन बुद्धु है। मनुष्य का मन अगर बुद्धू न होता तो भावनाओं के खिलाड़ी फिल्म, क्रिकेट, साहित्य, चित्रकारी तथा नाटक के खेलों में रस भरकर कमाई नहीं कर पाते। मनुष्य का मन जहां  बुद्धू हो जाता है वहीं से भावनाओं के व्यापारियों का ऐसा खेल प्रारंभ होता है जिसे सामान्य भाषा में मनोरंजन कहा जाता है।
मनुस्मृति न पढ़ना है मत पढ़ो। कार्ल मार्क्स की पूंजी किताब व लेनिन के भाषण पढ़कर कौन तीर मार लिये? मनुस्मृति पढ़ने से फिर भी धर्म व अधर्म की पहचान हो जाती है जबकि विदेशी विचार तो केवल स्वर्ग का मार्ग दिखाते हैं। कार्लमार्क्स के शिष्य शायद मनुस्मृति का विरोध इसलिये करते हैं क्योंकि अज्ञान फैलाकर स्वयं नायक बनना है। मनुस्मृति के विरोधी अंधेरे में प्रकाश के लिये राज्य की तरफ ताकते हैं जबकि मनुस्मृति स्वयं दिया जलाने की प्रेरणा देती हैं।
मनुस्मृति में कहा गया है कि
-----------
संतुष्टोभार्वथा भर्त्ता भत्री भायी तथैव च।
यस्मिनैव कुले नित्यं कल्याणं तत्र वैधुवम्।।
हिन्दी में भावार्थ-जिस परिवार में पति पत्नी एक दूसरे से प्रसन्न रहते हैं वह सदैव प्रसन्न तथा सुखी रहता है।
मनुस्मृति के विरोधी तो यह मानते हैं कि सभी पुरुष तो परमात्मा से हमेशा प्रसन्न रहने का वरदान लेकर पैदा हुए हैं जबकि महिलायें कष्ट पाने के लिये शापित हैं।  जबकि सच यह है कि हमारा अध्यात्मिक दर्शन मानता है कि स्त्री पुरुष अगर दोनों ही प्रसन्न रहेंगे तभी परिवार व समाज में शांति से रह सकता है। 

Saturday, June 25, 2016

स्वाध्याय तथा नाम स्मरण क्रिया योग है-पतंजलि योग साहित्य के आधार पर चिंत्तन लेख(A Hindu Article Based on PatanjaliYogaLiterature)


पतंजलि योग साहित्य में कहा गया है कि
---------------
तपः स्वाध्यायेश्वरप्रणिधानानि क्रियायोगः।
समाधि भावनार्थ क्लेशतनूकरणार्थश्च।
        हिन्दी में भावार्थ-तप, स्वाध्याय व ईश्वर की शरण लेना तीनों क्रिया योग हैं। इससे समाधि की सिद्धि होने पर क्लेश क्षीण हो जाते हैं।
        लेखकीय व्याख्या-‘योग साधना के व्यापक संदर्भ हैं। आसन, प्राणायम तथा ध्यान से जहां देह, मन व विचारों के विकार नष्ट होते हैं वहीं तप स्वध्याय तथा परमात्मा के स्मरण से ज्ञान के साथ ही जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण बनता है। मुख व मन में परमात्मा के नाम का स्मरण, ज्ञानार्जन के लिये ग्रंथों  अध्ययन तथा चिंत्तन करना भी क्रिया योग हैं जिससे मनुष्य के अध्यात्मिक तत्व का विकास होता है। कहने का अभिप्राय यह है कि हम अपने जीवन की हर क्रिया को योग दृष्टि से देखें तथा यह विचार करते रहें कि हमारे किस कर्म से कैसा परिणाम मिलेगा। इस तरह हम सदैव योगवृत्ति में स्थित रहते हुए जीवन का आनंद उठा सकते हैं।
        हमारे यहां गुरु शिष्य पंरपरा का इस तरह प्रचार किया जाता है जैसे कि कोई मनुष्य ही इस पद पर हो सकता है जबकि हमारे अध्यात्मिक दर्शन के अनुसार कोई ग्रंथ, प्रतिमा अथवा पक्षी भी गुरु हो सकता है। याद कीजिये महर्षि बाल्मीकि को एक क्रोंच पक्षी की मृत्यु से ऐसी प्रेरणा मिली कि उन्होंने महान ग्रंथ रामायण की रचना कर डाली।  महाकवि तुलसीदास की पत्नी के वियोग से ऐसी प्रेरणा मिली कि उन्होंने रामचरित मानस जैसी अनुपम रचना भारतीय समाज को दी। अतः अगर योग्य दैहिक गुरु न मिले तो अध्यात्मिक ग्रंथों को ही अपना गुरु मानना चाहिये। कहा जाता है कि ‘करत करत अभ्यास मूरख भये सुजान’, अतः स्वाध्याय के साथ ही परमात्मा नाम का आसरा लेना चाहिये।
---------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Sunday, May 29, 2016

वायुतत्व पर विजय से साधक तेजस्वी बनता है-पतंजलियोगदर्शन (Air Control in men Body nececesary by Yoga-Patanjali Yoga Darshan)

पतंजलि योग दर्शन में कहा गया है कि
---------
‘उदानजयाज्वलपङ्कण्टकादिष्वसङ्गउत्क्रान्तिश्च।’
हिन्दी में भावार्थ-‘उदानवायु को जीत लेने से जल, कीचड़ व कण्टकादि का शरीर से संपर्क नहीं रहता जिससे उसकी ऊर्ध्वगति भी होती है।’
व्याख्या-देह में वायु तत्व के पांच रूप है।
1. प्राणवायु जो नासिका से प्रविष्ट होता है।
2. अपानवायु जो नाभि से पांव तक विचरण करता है
3. समानवायु जो हृदय से नाभि तक रहता है।
4. व्यानवायु शरीर की समस्त नाड़ियों में विचरण करता है।
5. उदानवायु जो कंठ में रहता है। अंत समय में सूक्ष्म तत्व का इसी के सहारे बाहर गमन होता है।
  आजकल समाज में रोजरोग की प्रधानता है। इसका मुख्य कारण यह है कि मनुष्य ने श्रमसाधना से किनारा कर लिया है।  अनेक लोगों में गैस, अपच तथा उच्चरक्तचाप व मधुमेह जैसे रोगों से ग्रसित हैं।  यह सब रोग वायुतत्व के बाधित होने से होते हैं। योगसाधना के नियमित अभ्यास से वायुतत्व के समस्त तत्वों पर नियंत्रण हो जाता है। वायुतत्व पर नियंत्रण से मन का भटकाव भी समाप्त होता है।
------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, May 7, 2016

स्वाध्याय से भी इष्ट की प्राप्ति संभव-पंतजलि योग दर्शन के आधार पर चिंत्तन लेख (A Hindi Article based on PatanjaliYogaDarshan)

            कहा जाता है कि ‘करत करत अभ्यास से मूरख भये सुजान।’ हमारे भारतीय अध्यात्मिक दर्शन में अनेक ग्रंथ हैं। इन ग्रंथों नियमित अध्ययन से ही हृदय में भक्ति तथा ज्ञानार्जन के प्रति रुचि पैदा होती है। श्रीमद्भागवत गीता में भगवान श्रीकृष्ण ने कहा भी है कि श्रद्धा व भक्ति से उसका अध्ययन करने वाला केवल संसार में आनंद भोगता है वरन् पापों से भी मुक्त हो जाता है।
पतञ्जलि योग दर्शन में कहा गया है कि
---------
‘स्वाध्यायादिष्टदेवतासम्प्रयोगः।’
हिन्दी में भावार्थ-स्वाध्याय से इष्टदेवता की प्राप्ति हो जाती है ।’
व्याख्या-हमारे देश में गुरुशिष्य पंरपरा का बहुत प्रचार होता है। पेशेवर धार्मिक लोग गुरु बनकर अपने लिये अधिक से अधिक शिष्य संग्रह करना चाहते हैं। उनके राजसी कर्मों से अनेक धर्मभीरु लोग भ्रमित हो जाते हैं तब उन्हें लगता है इस संसार में योग्य गुरु मिलना कठिन है।  योग सूत्र के अनुसार स्वाध्याय से भी अपने इष्ट का स्मरण कर जीवन सार्थक किया जा सकता है।
श्रीमद्भागवत गीता में भी भगवान श्रीकृष्ण ने स्पष्ट किया है कि उनके स्मरण मात्र से ही साधक योगपद पर प्रतिष्ठत हो सकता है। इतना ही नहीं उन्होंने गीता के अध्ययन से भी सीखने की प्रेरणा दी है। अतः योग्य या वांछित गुरु न मिले तो स्वध्याय से अपने अंतर्मन में शुद्धि लाने का प्रयास करना भी ठीक है।
----------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, April 30, 2016

दिल के सुराग लाश की खाक में ढूंढते हैं-हिन्दी क्षणिकायें (Dil ke Surag lash ki Khak Mein Dhoodhte hain-HindiShortpoem)

किसी की हमारे घर पर
नज़र लगी है
आओ मुट्ठी भींचे
डर से बचने का
यह भी एक उपाय है।
...............
वह कौन है
जो हमारा आशियाना हिला रहा है।
सतर्क रहना
अपना चेहरा छिपा रहा
मुखौटे के पीछे
जुबान स्वयं हिला रहा है।
--------------

भलाई का सौदागर
दोपहर में कर रहा
साथ निभाने की बात
रात्रि में करेगा पीठ पर घात
यकीन करो आदर्शवाद में
खंजर की सोच वह मिला रहा है।
----------
फटेहाल गरीबों के
बने चित्र
यूं ही नहीं महंगे
बिक जाते हैं।

क्योंकि अमीर के घर की
चमकदार दीवारों पर
मजबूती से टिक पाते हैं।
-----------
शहर में सन्नाटा है
हैरानी है
यह अमन किसने बांटा है।

शायद सपनों की राख से
किसी ने
प्यार का पैगाम छांटा है।
-----------
दिल के सुराग
लाश की राख में
ढूंढते हैं।

टूटे सपनों के टुकड़े
बिखरे ख्याल की खाक में
ढूंढते हैं।

जिंदा इंसान से बेरुखी
मुर्दे में वीरगाथा
ढूंढते हैं।
--------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Thursday, April 14, 2016

कभी डरा भी देती यही जिंदगी-दीपकबापूवाणी (DeepakBapuWani)

स्वयं भटके वही पथप्रदर्शक बन जाते, मसखरी में ज्ञान देते गुरु तन जाते।
‘दीपकबापू’ गुरुकुल बनाये पंचसितारा, धवल चेहरा रखकर काला धन पाते।।
----------------------
कभी हसीन पल साथ लाती जिंदगी, कभी डरा भी देती यही जिंदगी।
धोखे भरोसे का सौदा रहेगा जारी, ‘दीपकबापू’ चलचित्र माने जिंदगी।।
----------------
दिल की बात जुबान पर नहीं लाते, धवल छवि काली नीयत में नहलाते।
‘दीपकबापू’ शब्द के सौदागर ठहरे, अनर्थ के अपने ही रंग से बहलाते।।
----------------
बाह्य आक्रमण का भय रहता है, चोट दे अंदर वाला इतिहास कहता है।
‘दीपकबापू’ सामने खंजर झेल लेते, पीछे के साथी का वार कौन सहता है।।
--------------------
भजन आमंत्रण में चार लोग नहीं आते, व्यसन के मेले सभी को भाते।
‘दीपकबापू मन के खेल में ऐसे फंसे, बदन में स्वाद के लिये विष लाते।।
----------------
माया के मद में अर्थहीन शब्द कहें, भ्रम में फंसे बुद्धिमान अहंकार में बहें।
‘दीपकबापू’ ऊंचे लोगों से बचे रहें, बोल अनुसना करें तो मौन भी न सहें।।
-------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Thursday, March 24, 2016

बंदरिया बहुत भोली है-होली पर तीन कवितायें (Three ShortHindiPoem on Holi)

बंदरिया बहुत भोली है।
बंदर दिन में ही
वाइन पीकर
पराई बंदरियाओं पर
गरिया रहा है
वह समझती 
यही सचमुच की होली है।
-----------
कवि पी रहा
सुबह सुबह वाइन
घर में ही हिम्मत से
बोतल खोली है।

चेले ने कहा
‘गुरु हर पैग के साथ
लिखते भी जाओ
साल भर में एक ही बार
आती होली है।
------------
रंग भी नकली हुए
गंध हुई भ्रष्ट
स्पर्श से देह को सताते
बीमार बोली है।

आनंद में सराबोर
होने को तैयार मन
डरते हुए कहे
इससे तो बेहतर सूखी होली है।
------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, March 12, 2016

जनवाद व परिवाद छात्रों की शिक्षा में बाधक-चाणक्य नीति के आधार पर चिंत्तन लेख (JanWad va Pratiwad destroyed Student Mind-A Hindi Thought Article based on Chankyapolicy)

                        हमारे देश में कार्ल मार्क्स के अनुयायी स्वयं को जनवादी कहते हैं। इनके संगठन छात्रों में अपने विचारों का प्रचार कर उन्हें समाज सेवक के रूप में तैयार करने का काम करते हैं। इनका मानना है कि छात्रों को चुनावी राजनीति की शिक्षा शैक्षणिक काल के दौरान ही दी जानी चाहिये। वैसे हमारे अध्यात्मिक दर्शन के अनुसार हर मनुष्य में राजसी चतुराई स्वाभाविक रूप से होती है पर जनवादी मानते हैं कि वह भी पशु पक्षियों की तरह होता है जिसे आधुनिक ज्ञान देना जरूरी है।  छात्रों को ज्ञानी बनाने के क्रम में यह विमर्श नीति के  क्रियान्वयन में यह संवाद कार्यक्रम करते हैं-जिसमें वाद प्रतिवाद या कहें परिवाद  होता है। इसमें समाज के उच्च वर्ग व वर्णों के कथित रूप से एतिहासिक अत्याचारों का वर्णन कर कमजोर वर्ग के छात्रों को सशक्त बनने की प्रेरणा दी जाती है।
चाणक्य नीति में कहा गया है कि
---------------
द्यूतं च जनवादं च परिवादं तथाऽनुतम्।
स्त्रीणां च प्रेक्षणालम्भावपघातं परस्व च।।
                        हिन्दी में भावार्थ-विद्यार्थी को जुआ, जनवाद (दूसरों से विवाद करने), परिवाद(दूसरे की निंदा व बुराई करने), झूठ बोलने, स्त्रियों से परिहास व किसी को भी हानि पहुंचाने को दोषों से दूर रहना चाहिये।
                        चाणक्य नीति के अनुसार तो जनवाद दूसरों से विवाद व परिवाद निंदा करना ही होता है।  इस तरह तो जनवाद व उनका परिवाद कार्यक्रम छात्रों की शिक्षा में व्यवधान उत्पन्न करता है। अब धीरे धीरे यह बात समझ में आने लगी है कि जनवादी भारतीय अध्यात्मिक दर्शन का विरोध करते हुए आक्रामक क्यों हो जाते हैं? दरअसल भारतीय अध्यात्मिक दर्शन में सहज जीवन बिताने की प्रेरणा दी जाती है जबकि विदेशी विचारधारा के प्रवाहक मनुष्य में सहजता का भाव पैदा कर उसकी बुद्धि अपने अधीन कर लेते हैं। वह छात्रों को अपना अनुयायी बनाकर उनके सामने आधुनिक विद्वान की छवि बनाते हैं।  विदेशी विचाराधारा के विद्वान भारतीय पूजा पद्धति कर जरूर विरोध करते हैं पर अपने सम्मान के कार्यक्रमों में पूज्यनीय बनकर प्रस्तुत होते हैं।
                        इसलिये हमारी राय है कि समस्त लोगों को हमारे प्राचीन ग्रंथों के साथ ही चाणक्य तथा विदुर नीति का अध्ययन अवश्य करना चाहिये।
--------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Monday, February 22, 2016

संत रविदास भारतीय अध्यात्मिक परंपरा के महान संवाहक-रैदास जयंती पर हिन्दी लेख(Special HindiArticle on BirthDay on sant Ravidas or Raidas)


भारतीय अध्यात्म दर्शन में श्रीमद्भागवत गीता के बाद भी अनेक संतों ने भी श्रीवृद्धि प्रदान की है-इनमें संत रविदास (रैदास) का नाम भी अत्यंत सम्मानीय है। कहा जाता है कि संतों की जात नहीं पूछी जाना चाहिये। हम जैसे लोग कभी संतों की जात जानना भी नहीं चाहते  पर हैरानी इस बात पर हो रही है कि अब संतों की जाति भी बताई जा रही है। एक बार इस लेखक ने अपने एक मित्र से रविदास पर चर्चा करते हुए उनपर किताब न होने की बात कही तो उसने तत्काल अपने घर रखी किताब देने का वादा किया।  उसने अगले दिन रविदास पर लिखी किताब प्रदान कर दी। यह उल्लेख करते हुए बुरा लग रहा है कि वह दलित वर्ग से था।  उस किताब में रविदास के दलित वर्ग में चेतना लाने के प्रयासों का उल्लेख था। लेखकगणों ने बड़े परिश्रम से उस पर रचनायें लिखीं जो कि साधुवाद के पात्र हैं। अलबत्ता एक बात लगी कि लेखकगण भी जातिवाद से मुक्त नहीं हो पाये। ऐसा लिखा गया कि लगे कि रविदास की भूमिका केवल दलित चेतना तक ही सीमित थी।  हम जैसे योग व अध्यात्मिक साधक के लिये यह स्वीकार करना कठिन है कि उन जैसे संत को किसी समाज तक सीमित रखा जाये।
संत रविदास कहते हैं कि

------------
धरम की कोइ जाति नाहि, न जाति धर्म के मांहि।
रैदास सो चले धर्म पर, करेंगे धर्म सहाय।।
                     हिन्दी में भावार्थ-धर्म की जाति नहीं है और न जाति धर्म मे है। धर्म पथ पर जो चलेगा उसकी धर्म ही सहायता करेगा।
भारतीय प्राचीन ग्रंथों में-वेद, उपनिषद रामायण व मनुस्मृत्ति-दोष देखने वाले अनेक बुद्धिमान लोग रविदास को भले ही दलित चेतना तक ही सीमित रखें पर हमारा मानना है कि उन जैसे संत भारत की उसी अध्यात्मिक परंपरा के संवाहक थे जो कि निरंतर अन्वेषण के साथ ही परिवर्तन की पोषक है।  भारतीय अध्यात्मिक परंपरा में रूढ़ता के साथ बना रहना स्वीकार्य नहीं है वरन् समय के साथ मनुष्य को अपना जीवन बिताने के संदेश भी वह देती है।  यही कारण है कि अंधविश्वास व अंधभक्ति के विरुद्ध यहां सतत अभियान ऐसे ही महान संत चलाते हैं। समाज भी उन्हें अपना ही मानता है। वेदों के बारे में तो कहा जाता है कि उनकी रचना का न आदि है न अंत-अर्थात समय के साथ अन्वेषण से प्राप्त कोई निष्कर्ष उन्हीं वेदों का हिस्सा है जिन्हें हम पूर्ण मानकर चलते हैं।
ऐसे ही महान संत रविदास को हमारा कोटि कोटि प्रणाम!
                ---------------------------------------------------------

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Wednesday, January 27, 2016

ट्विटर पर शनि शिंगणापुर में मंदिर में नारी प्रवेश आंदोलन-गर्व से कहो हम लोकतांत्रिक भी हैं-ट्विटर पर वाक्यांश (subject of women Entry in ShaniShingnapur)


             शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं को प्रवेश मिलना चाहिये पर अगर वहां के पुजारी यह नहीं चाहते तो उसके विरुद्ध सार्वजनिक आंदोलन करना भी ठीक नहीं हैं। मूलतः हिन्दू अध्यात्मिक ज्ञान स्त्री पुरुष की किसी प्रकार की पूजा निषेध नहीं करता पर ज्ञानी का यह काम नहीं है कि वह दूसरे के कर्मकांडों पर प्रतिकूल टिप्पणी करे। वैसे शनिशिंगणापुर मंदिर में प्रवेश के लिये हो रहे महिला आंदोलन से हिन्दू धर्म की प्रतिष्ठा बढ़ ही रही है।  यह इस बात का प्रमाण है कि हमारे समुदाय में नारियों के लिये भी स्वाभाविक लोकतंत्र है। शनिशिंगणापुर  में नारी प्रवेश के लिये आंदोलन से हिन्दू को विचलित न हों। खुश हों कि हमारे समुदाय में दूसरों की अपेक्षा ज्यादा जागरुकता है। हिन्दू समुदाय में नारियां अपने धार्मिक भेदभाव के विरुद्ध आंदोलन भी कर सकती हैं। अन्य समुदायों से श्रेष्ठ होने का यह एक बड़ा प्रमाण है। अध्यात्मिक योग व ज्ञान साधक के रूप में हमारी राय है कि शनिशिंगणापुर में हेलीकाप्टर से प्रवेश का नाटक रोके नहीं। हमारी धार्मिक सहिष्णुता का प्रमाण होगा। हिन्दू धर्म अपने प्राचीन तत्वज्ञान के कारण इतना शक्तिशाली है कि वह मंदिर में प्रवेश करने या न करने के नाटकों से खतरे में नहीं आता।

हिन्दू समुदाय की महिलायें अपने दायरे में ही तो आंदोलन करेंगी उन्हें दूसरे समुदायों के अंधविश्वासों के विरुद्ध लड़ने के लिये कहना ठीक नहीं। हमें दूसरे समुदायों के अंधविश्वासों पर टिप्पणी करने की बजाय स्वयं अपने ज्ञान के प्रति विश्वास जगाना चाहिये। शनिशिंगणापुर में नारी प्रवेश के लिये आंदोलन करने वालों को दूसरे समुदायों के उदाहरण बताकर मौन रहने के लिये कहना गलत। दिलचस्प! शनिशिंगणपुर में  नयी व पुरानी विचाराधारा की हिन्दू समुदाय की महिलाओं के बीच वाक्युद्ध! गर्व से कहो हम लोकतांत्रिक भी हैं। शनिशिंगणापुर में नारी प्रवेश के आंदोलन को धर्म पर हमला नहीं वरन् अपने लोकतांत्रिक होने का प्रमाण समझकर गर्व करें। प्रगतिशील व जनवादी विद्वान शनिशिंगणापुर में नारी प्रवेश आंदोलन पर न फुदकें क्योंकि उनके प्रिय  धर्म के प्रमुख स्थान में तो महिलायें जाने की सोचती भी नहीं।
--------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, January 2, 2016

पठानकोट हमले के बाद पाकिस्तान से सद्भाव की आशा नहीं (Pathatkot Attack proof Pakistan Terrorist country)


                           आज पठानकोट में पाकिस्तान  प्रायोजित आतंकवादी हमला होने का मतलब यह है कि  पाकिस्तान पर बाहर से नहीं वरन् अंदर घुसकर कूटनीतिक प्रयासों से उस नियंत्रण करना होगा। इसका आशय युद्ध करने से न लें। इस हमले के बाद निष्कर्ष यह समझ में आता है कि पाकिस्तान के अंदर कूटनीति से विभाजन कर उस पर नियंत्रण किया जाये। पाकिस्तान विभिन्न जातीय, भाषाई तथा सांस्कृतिक समूहों में बंटा है जिसे जबरन धर्म की छत के नीचे लाया गया है-कूटनीति से उसे काबू करना होगा। पाकिस्तान पर पंजाब प्रांत के प्रभावशाली लोगों का कब्जा है जिसे समाप्त किये बिना भारत में शांति संभव नहीं है।
                           पाकिस्तान की केंद्र सरकार का पूरे देश पर नियंत्रण न रहा है न आगे हो सकता क्योंकि उसकी सक्रियता केवल लाहौर को ही चमकाने तक ही सीमित रहती है। पाकिस्तान सरकार  में पंजाब में भी केवल लाहौर तक ही देखती है जबकि वहां मुल्तान व बहावलपुर जैसे एतिहासिक क्षेत्र हैं जिन पर सरकार ध्यान नहीं देती। वहां विकास की अपार संभावना हमेशा रही है पर पाकिस्तान में उसकी उपेक्षा की जाती है ताकि भारत भेजने के लिये आतंकी मिल सकें। किसी समय भारत के कराची, मुल्तान, सक्खर व पेशावर शान हुआ करते थे पर पाक बनने के बाद तबाह हो गये। आज वहां आतंक के कारखाने हैं। पाकिस्तान का अभिजात्य वर्ग वहां के लोगों की गरीबी का लाभ उठाकर उन्हें आतंकी बनाकर भारत भेजता है ताकि उसका अस्तित्व बना रहे। पाक के अभिजात्य वर्ग की गरीबों को आतंकी बनाकर भेजने की नीति तब तक चलती रहेगी जब तक कूटनीति से उस पर वैसा संकट नहीं लाया जायेगा जैसा वह दूसरों के लिये बना रहा है।
                           पाकिस्तान का चार भागों में विभाजन हो जाना ही भारतीय उपमहाद्वीप क्षेत्र में शांति बनाये रखने का एकमात्र उपाय है-पाकिस्तान का सिंध, ब्लूचिस्तान व सीमाप्रांत पंजाबी प्रभाव से बाहर होने की  रणनीति सफल होने पर ही   भारत विकास कर पायेगा। धार्मिक आधार पर बने पाकिस्तान का वैमनस्य भाव कभी खत्म नहीं होगा-यह तय समझें। पाकिस्तानी समाज में भारतीय समाज के प्रति सोहार्द भाव की आशा करना ही  रेत में घी ढूंढने  के समान है। ब्लूचिस्तान, सिंध और सीमाप्रांत के लोग पंजाबी प्रभाव वाले शासन व सेना से चिढ़ते हैं जिसका भारतीय कूटनीतिज्ञ लाभ उठाकर पाकिस्तान का विभाजन करा दें तो वास्तव में हमारा देश विश्वशक्ति कहलायेगा। पाकिस्तान का 4  भागों में विभाजन इस तरह करवाना चाहिये कि सभी भाग भारत पर  अपनी आवश्यकताओं के लिये इतने आश्रित रहें कि प्रतिकूल कोई कार्यवाही का सोच भी न सकें।
------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Thursday, December 24, 2015

राजसी पुरुष का आवामगमन निर्बाध होना चाहिये-कौटिल्य का अर्थशास्त्र(rajsi Purushon ki Raksha-Kautilya ka Arthshastra)

                           हमारे यहां के प्रचारकर्मी आमतौर से राजसी पदों पर प्रतिष्ठित लोगों के वाहन निकलने पर सामान्य लोगों का आवागमन रोकने का विरोध करते हैं। यह उनका अज्ञान हैै।  कहा जाता है कि राज्यप्रमुख की रक्षा पहरेदारो को उसी तरह करना चाहिये कोई पुरुष स्त्री की करता है। राज्य प्रमुख के जीवन का भय प्रजा के लिये संकट होता है। इसलिये विशिष्ट पदधारी लोगों की रक्षा पर आपत्ति होना ही नहीं चाहिये। प्रचारकर्मियों को चाहिये कि वह राजसी पदवाले लोगों की नीतियों, कार्यक्रमों तथा प्रबंध तक ही अपनी बात रखें। हमारे देश के लोग भी राजसी पुरुषों के रहन सहन व चालचलन से अधिक उनके राज्य के प्रति कर्मो पर अधिक ध्यान देते हैं।
कौटिल्य का अर्थशास्त्र में कहा गया है कि
-------------------------
निर्गमे च प्रवेशो च राजमार्ग समान्ततः।
प्रोत्सारितजनम् गच्छेत्सम्यगाविष्कृतोन्नति।।
           हिन्दी में भावार्थ-राज्य प्रमुख कहीं जाये तो राजमार्ग स्वच्छ कर सामान्य लोगों का आवागमन रोककर सम्मान से गमन करे।
                           अभी दिल्ली में निजी कारों के आवागमन पर समविषम सूत्र लागू करते हुए विशिष्ट राजसी पदों वाले लोगों को उससे मुक्ति दी गयी है।  यह ठीक है इसका विरोध नहीं होना चाहिये। हां, इतना जरूर कह सकते हैं कि राजसी पदों वालों की रक्षा जहां आवश्यक है वहीं यह भी आवश्यक है कि वह सामान्य प्रजा के लिये हितैषी होकर काम करते रहें। उनके यही काम चर्चा का विषय होना चाहिये। यह चिंता की बात है कि आधुनिक लोकतंत्र से राजसी पदों पर आने वाले लोग पुरानी राजसी प्रवृत्ति का शिकार हो रहे है।

दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Saturday, December 12, 2015

जापान के प्रधानमंत्री की गंगा आरती पर लिखे गये ट्विटर (Twitter on Japani primminister visit's Kashi in Ganga Aarti)


                           जापान का हर नागरिक उस बौद्धधर्म में रमा है जिसका जन्म ही हिन्दू अध्यात्मिक दर्शन से हुआ है। अतः प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी का उसे भारत का निजी मित्र कहना अच्छा लगा। बौद्धधर्मियों का राष्ट्र जापान विश्व में सबसे धनी है तो उसके निवासी भी पराक्रमी है। उनके प्रधानमंत्री शिंजो आबे का भारत में स्वागत है। अगर चीन भी जापान व भारत के साथ धार्मिक आधार पर एकता स्थापित करे तो पश्चिम से निर्यातित आतंक रोका जा सकता है। काशी व क्योटो के बीच सेतु की तरह अध्यात्मिक दर्शन है। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्रमोदी तथा जापान के प्रधानमंत्री शिंजो अबे का बनारस में गंगा की आरती देखने का दृश्य अच्छा लगा। हमारा मानना है कि पश्चिम के देशों से विज्ञान के आधार पर मित्रता करने से अधिक पूर्व के देशों से अध्यात्मिक एकता कायम करना ही बेहतर है।
                           जापान के प्रधानमंत्री की काशीयात्रा से अब तो यह लग रहा है कि भारत को अपनी धार्मिक अध्यात्मिक पहचान के साथ ही विश्व में आगे बढ़ना चाहिये। विश्व के एक धनी देश जापान के प्रधानमंत्री का गंगा के तट पर जाकर आरती देखना इस बात का प्रमाण है कि भारत की पहचान उसके मूल दर्शन से भी है।
&&&&&&&&&&&&&&&&&
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Wednesday, November 11, 2015

अनुपम खेर के सहिष्णुता मार्च पर ट्विटर (Twitter on Subject march of Anupam Kher) MarchForIndia


            अनुपमखेर के नेतृत्व में देश की प्रतिष्ठा खराब करने वालों के प्रतिकूल  किये गये प्रदर्शन को सहिष्णुता मार्च कहना चाहिये। अनुपमखेर में नेतृत्व में निकलने वाले भारत के लिये मार्च पर सकारात्मक रुख अपनाते हुए उनकी प्रशंसा करना चाहिये। अब यह सवाल तो पूछा ही जायेगा कि एक अभिनेता को देश में असहिष्णु माहौल कैसे दिखेगा जबकि दूसरा उसे नकार रहा है। देश के असहिष्णु माहौल के प्रचार का उत्तर भारत के लिये मार्च से दिया जाना इस बात का प्रमाण है कि देश लोकतांत्रिक रूप से सहिष्णु व परिपक्व है। असहिष्णु वातावरण के प्रचार का भारत के लिये मार्च से जवाब! अनुपम खेरजी की बौद्धिक योजना का जवाब नहीं! इसमें कोई संदेह नहीं है कि भारत के लिये मार्च में एकत्रित भीड़ ने भारत की सहिष्णुता की मर्यादित सीमा भी बता दी है। समस्या यह है कि प्रगतिशील और जनवादी शैली की रचनाओं को राज्य प्रबंध से समर्थन नहीं मिलने वाला। यह कुछ रचनाकार सहन नहीं कर पा रहे।
                                   अनुपमखेर के नेतृत्व में बुद्धिजीवियों के  सहिष्णुता मार्च से भारत की अंतर्राष्ट्रीय पटल पर प्रतिष्ठा बढ़ती है तो अच्छी बात होगी। अनुपम मार्च से  एक बात तय हो गयी कि बौद्धिक दृष्टि से भी सुविधानुसार घटनाओं पर राय कायम की जा सकती है। आपकीबात अनुपम मार्च यह ट्विटर  दिखाई दिया।

भारत में सहिष्णुता के प्रश्न उठाकर कथित बुद्धिमानों ने प्रचार में नाम जरूर पाया पर उनकी छवि देशविरोधी बन रही है। अब तो यह सवाल दिमाग में आता है कि सहिष्णुता का मसला उठाने के पीछे असली वजह क्या है? पर्दे के पीछे का राज बाहर आना चाहिये। आप जोर से चिल्लायें तो यह अभिव्यक्ति का अधिकार है, पर लोग सुनने से इंकार कर दें तो मानना पड़ेगा कि समाज सहिष्णु है। आप चिल्लाकर बोलें यह अभिव्यक्ति का अधिकार है, उसे कोई न सुने यह यह समाज की असहिष्णुता का प्रमाण नहीं हो सकता। समाज में जागरुकता बढ़ी पर चेतना कम हुई है अब कोई कहे तो कहता रहे कि  असहिष्णुता बढ़ी है।
----------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Monday, November 2, 2015

दक्षिणपंथी और राष्ट्रवादी लेखकों को सम्मान देना आवश्यक(Rashtrawadi Dakishinpanthi Lekhkon ko Samman Dena Awashyak)


                                   इंटरनेट पर अनेक दक्षिणंपथी राष्ट्रवादी लेखक सक्रिय हैं, इस दीपावली पर सम्मानित कर जनमानस के हृदय पटल पर स्थापित किया जाये। हम जैसे अध्यात्मिकवादी लेखक मानते हैं कि इससे सम्मान वापसी कर रहे कथित बुद्धिजीवियों के प्रचार को चुनौती दी सजा सकती है।  इनमें से अनेक तो ऐसे हैं जिनके ब्लॉग है जिनमें किसी सामान्य पुस्तक से अधिक रचनायें हैं। यह लोग निष्काम भाव से काम करते हैं। सबसे बड़ी बात यह कि उन्हें अब वैसे ही प्रोत्साहन की आवश्यकता है जैसा कि उनके अनुसार ही जनवादियों और प्रगतिशीलों को मिलता है। इनमें से कुछ लोग सम्मान मिलने पर राष्ट्रीय प्रचार पटल पर आ जायेंगे तो उन्हें अपनी बात कहने के लिये व्यापक क्षेत्र मिलेगा। इससे परंपरागत प्रकाशन जगत का महत्व भी कम होगा और वहां लिख कर सम्मानित लोगों का महत्व भी अधिक नहीं रहेगा।
                                   हम अध्यात्मिकवादी लेखक है अंतप्रेरणा से लिख लेते हैं पर दक्षिणपंथी राष्ट्रवादी लेखकों राजसी समर्थन की आवश्यकता प्रतीत हो।  प्रचार माध्यमों में जो सार्वजनिक  बहस होती है वह राजसी कर्म की श्रेणी के होते हैं।  हमारा मानना है कि राजसी कर्म राजसी बुद्धि और साधनों से संपन्न होते हैं। वहां सात्विक तत्व ढूंढना या रखते हुए दिखना स्वयं को धोखा देना है। राजसी कर्म में जस की तस नीति अपनाना ही श्रेयस्कर है। इन दक्षिणपंथी राष्ट्रवादी लेखकों को अपना अभियान जारी रखने के लिये राजसी समर्थन की आवश्यकता है-यह हमारा विचार है। यहां यह भी स्पष्ट कर दें कि हमारा इसमें कोई निजी स्वार्थ नहीं है। न ही हमारा सम्मान पाने के लिये कोई ऐसा लिख रहे हैं।  हां, यह सही है कि दक्षिणपंथी  राष्ट्रवादी लेखकों से अपनी रचनाओं की वजह से करीबी रही है पर इसका मतलब यह नहीं है कि हमारा  उनमें स्वार्थ है।
--------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Sunday, October 11, 2015

विशेष रविवारीय दीपकबापू वाणी (Super Sundya Deepak Bapu Wani)


तरक्की के पहिये बड़े भारी, रास्ते जाम हो ही जाते हैं।
दीपकबापूभूख से बड़ी लालच, सस्ते काम हो ही जाते हैं।।
----------------
भ्रष्ट इंसान की खोज जारी है, बेफिक्र हैं जिनकी नहीं बारी है।
दीपकबापूविकास की चमक में, काली माया का खेल जारी है।।
-----------------
राजसी कर्म में शुद्ध भाव की आस, जैसे बिना इक्के की तास।
दीपकबापू चले पवित्रता की राह, विरले ही करते जगत में वास।।
-----------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Friday, September 25, 2015

ट्विटर पर भारतीय दर्शन पर लिखी गयी सामग्री (Twitter on bhartiya darshan-New post


                                   भारतीय प्राचीन ज्ञान की प्रशंसा व उसके अनुयायी होने का दावा करना तब तक व्यर्थ है जब तक हम पाश्चात्य राज्य प्रबंध नीति अपनाते हैं। जब हम यह कहते हैं कि हमारे प्राचीन ग्रंथ ज्ञान का भंडार है तब प्रगतिशील विद्वान देश के राज्यप्रबंध की कमियां दिखाकर सवाल करते हैं। हमारा अध्यात्मिक दर्शन व्यक्ति में सहजभाव के निर्माण के साथ राज्य प्रबंध के वैज्ञानिक सिद्धांतों से भरा है पर उस पर नहीं चलते। अगर हम भारतीय अध्यात्मिकवादी होने का दावा करते हैं तो यह भी आवश्यक है कि हम उसमें राज्य प्रबंध की बतायी गयी नीतियों भी पर चलें।  हम बात तो अपने प्राचीद दर्शन की करते हैं जबकि जबकि हमारा राज्य  पाश्चात विचार तथा नीतियों  पर आधारित है। यह विरोधाभास ही सबसे बड़ी समस्या है। अंतर्जाल पर भी भारतीय धार्मिक नीतियों से सहमत लोग लिखते हैं पर कोई सम्मानजनक स्थिति न होने से उन्हें निराश भी होना पड़ता है। हां, इतना जरूर है कि इंटरनेट पर जो लोग अपने पाठ लिखने का पूरा आनंद उठाते हैं वह किसी की परवाह नहीं करते।  जिन लोगों को परवाह होती है वह पसंद कम होने या टिप्पणियां कम मिलने से निराश होते हैं। उन्हें इससे बचना चाहिये।
                                   उत्तर प्रदेश में गंगा तथा यमुना में गणेश जी की प्रतिमा  विसर्जित करने पर विवाद चल रहा है। इन दोनों नदियों के प्रदूषित होने की चर्चा से दशकों से चर्चा में है और लग अब इनकी स्वच्छता को लेकर गंभीर हो गये हैं। ऐसे में गंगा तथा यमुना  में गणेश प्रतिमा विसर्जन करने की जिद्द कर प्रशासन से भिड़ने वाले समझ लें कि उन्हें सामान्य हिन्दू का समर्थन नहीं मिल सकता। गणेशजी की भक्ति करना पवित्र काम है पर इससे उनकी प्रतिमा गंगा  और यमुना नदियों  में विसर्जित कर जल प्रदूषित करने का अधिकार नहीं मिल जाता। अगर प्रशासन कहता है कि गणेशजी की प्रतिमा गंगा और यमुना नदी में विसर्जित करना ठीक नहीं तो उसे न मानना अधर्म ही है। गणेशजी विवेक का प्रतीक हैं और उनकी प्रतिमा का गंगा और यमुना  में विसर्जित करने की जिद्द कर प्रशासन से भिड़ना अविवेक का प्रमाण है। वैसे एक प्रश्न तो उठेगा कि सन्यासी रंग के वस्त्र धारण कर गणेशी जी की प्रतिमा गंगा में विसर्जित करने की जिद्द कर कौनसे नियम का पालन कर रहे हैं।
----------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

Monday, September 14, 2015

हिन्दी दिवस पर दीपकबापूवाणी (DeepakBapuWani-Kavita On HindiDiwas)


हृदय धड़के मातृभाषा में, भाव परायी बाज़ार में मत खोलो।
कहें दीपकबापू खुशी हो या गम, निज शब्द हिन्दी में बोलो।।
---------------
दिल के जज़्बात अपने हैं, अपनी जुबां हिन्दी में बोलो।
दीपकबापू हमदर्दी के रास्ते अब अंग्रेजी से मत खोलो।।
----------------------
अंग्रेजी में सम्मान कमाया नहीं, आत्मसम्मान भी समाया नहीं।
दीपकबापूअब भी गरीब, खुद की जुबां का भी साया नहीं।
-------------------
गोरी जुबां अर्थ की काली, कैसे दिल में अपने डाली।
दीपकबापू हिन्दी में लेते अर्थ, अंग्रेजी में बजाते ताली।
----------------
राजाओं की स्तुति रोज करते, हिन्दीदिवस पर भी पेट में भोज भरते।
दीपकबापूमातृभाषा के नाम पर, कभी हिंग्लिश के शोज भी करते।।
..........................
हिन्दी के शब्द महंगे नहीं बिकते, इसलिये बाज़ार में कम दिखते।
दीपकबापू अंग्रेजी के सेवक, छद्मरूप में हिंदी की दम दिखते।।
---------------
दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप’’
ग्वालियर मध्यप्रदेश
Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh
संकलक, लेखक और संपादक-दीपक राज कुकरेजा ‘भारतदीप’,ग्वालियर 
athor and editor-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep",Gwalior
http://zeedipak.blogspot.com
यह पाठ मूल रूप से इस ब्लाग‘दीपक भारतदीप की अंतर्जाल पत्रिका’ पर लिखा गया है। अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द लेख पत्रिका
2.शब्दलेख सारथि
3.दीपक भारतदीप का चिंतन
४.शब्दयोग सारथी पत्रिका
५.हिन्दी एक्सप्रेस पत्रिका 
६.अमृत सन्देश  पत्रिका

समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढ़ें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका


इस लेखक की लोकप्रिय पत्रिकायें

आप इस ब्लॉग की कापी नहीं कर सकते

Text selection Lock by Hindi Blog Tips

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर

विशिष्ट पत्रिकायें

Blog Archive

stat counter

Labels